15 Ramadan Yaum e Wiladat Hazrat Imam Hasan AlaihisSalam

❤️15 RAMZAN❤️
YOUME WILADAT NURE NAZAR E RASOOL-E-KHUDA ﷺ
IMAMAT KE DUSRE TAJADAR
LAKHTE JIGAR-E-SAYEDA ZAHARAس WARIS E RASOOL ﷺ O MOULA ALIعَلَيْهِ السَّلَام
BARADAR E IMAM-E-IMAM HUSSAIN عَلَيْهِ السَّلَام
IMAM HASAN-E-MUJTABA عَلَيْهِ السَّلَام
TAMAM ALAM-E-ISHQ WA ALAM-E-ISLAM KO BAHUT BAHUT MUBARAK HO…
✍🏻 SAYYED ZAINUL AABEDIN AL AIDROOS
ईमाम हसन अलेहिसलाम कौन है?
ईमाम हसन वो है जिनपे नमाज़ में दुरूद ना पढो तो तुम्हारी नमाज़ ही मुकम्मल नही, कबूल होना तो दूर की बात है ” वा आला आले मुहम्मद”
सल्ललाहो अलेह वा आलेही वस्सलम
15 रमजान
यौमे विलादत शहजादा ए रसूल صلی اللہ علیہ وآلہ وسلم,
सिब्त ए नबी صلی اللہ علیہ وآلہ وسلم,
हम सबीह ए रसूल صلی اللہ علیہ وآلہ وسلم,
जिगर गोशा ए बतूल سلام اللہ علیہا,
जानशीन ए हैदर ए कर्रार علیہ السلا
,अमीर उल मोमीनीन علیہ السلام,
“हुजूर सय्यदना मौला इमाम “हसन” علیہ السلام खूब खूब मुबारक हो 💚
#15 रमजान विलादत ए मौला  इमाम हसन इब्ने अलीع
तमाम मुहिबान ए अहलै बैत  ع को जहूर ए हम शक्ल ए मुस्तफा ﷺ मौला इमाम हसन अल मुज्तबा عखुब खुब मुबारक हो
ज़िक्र ए हसन عइबादत ए परवर दिगार है
कौले रसूल ए पाक  ﷺसे ये आसकार है
जिस शख्स का गुलामे हसन ع में शुमार है
उस शख्स की निजात का हक जिम्मेदार है
म़दहे हसन ع असल में है मिंदहत रसुल ﷺ की
मदहे रसूल  ﷺ  मिदहत ए परवर दिगार है
जंग ए हुसैन ع जिस तरह “दी” की है  आबरू सुल्हे हसन ع उसी तरह “दी” का विकार है
जुल्फे नही है दस्ते हसन ع और हुसैन ع मे
हाथों में इनके दीन ए खुदा की मेहर है
उसकी बुलंदियों पे फलक क्यो ना हो निसार
दोशे रसूले पाक ﷺ  का जो शह सवार है
नाजिल न क्यो हो इसके तस्सद्दुक में रेहमते
जिसका वजूद रेहमते परवर दिगार है
हम क्यो ना जश्न ए मोहम्मद ﷺ कहे इसे
हर वस्फ में नबी ﷺ का जो आइना दार है
बातिल का कट गया है गला तेरी सुल्हा से
मौला ये तेरी सुल्हा है या जुल्फिकार है
वो जिसके दिल में इसकी विला बरकरार है
उस शख्स पर इनायत परवर दिगार है
हुसैन ع साबिरो शाकिर है मुस्तुफा  ﷺ की तरह
हसन ع  को अम्न का परवर दिगार कहते है
_
#अस्सलाम_ओ_अलेका #या_हसन_अल_मुज्तबा
15 Ramzan ul Mubarak
Yaume Wiladat e Ba’Sadaat
Aulad e Rasool ﷺ Nawasa e Rasool ﷺ Ham Shabi e Rasool ﷺ Janasheen e Rasool ﷺ Shah Sheh Sawaar e Dosh e Rasool ﷺ Nabira e Mohsin e Islaam Sarkar Abu Talib (Alaihis Salam) Farzand e Mola e Kaynat Mola Imaam Ali (Alaihis Salam) Noor e Nazar e Sayyeda e Kaynat Syyeda Fatima Zehra (Salamun Aleha) Biradar e Imaam e Aalimaqaam Imaam Hussain (Alaihis Salam) wa Syyeda Zainab o Syyeda Umme Kulsoom (Alaihimus Salam) Sayyed ush Shabaabi Ahlil Jannah Shaheed e Abrar Rehaan e Rasool Ameer ul Momineen Khalifa tul Muslimeen Imaam e Doyam Khalifa e Panjum Imaam e Arsh Maqaam Hazrat Syedna Sarkar Mola Imaam Hasan Mujtuba (Alaihis Salam)
Tamaam Aalam e Islaam Ko Bhut Bhut Mubarak
Aap Imam e Zaman Mere Maula Hasan
Mustafa Ka Badan Mere Maula Hasan
Apke Dam Se Hi Toh Hai Mahek Raha
Murtaza Ka Chaman Mere Maula Hasan
Teri Amad Huwi Aur Chahekne Laga
Fatimah Ka Sehan Mere Maula Hasan
Din Duniya Thi Jab Aamne Samne
Aap Laaye Aman Mere Maula Hasan
Me Aur Nasle Meri Tumpe Qurban Karu
Apna Tan Man Dhan Mere Maula Hasan
Tumko Dekhe Jab Dakhil Hotey Huwe
Roke Siddique Sukhan Mere Maula Hasan
Aapko Chordkar Ho Sakti Nahi
Mukammal Panjatan Mere Maula Hasan
Sabz Rang Chuna Aur Hara Kar Diya
Deen Ka Gulshan Mere Maula Hasan
Ho Mayassar Mujhe Kash Chadar Teri
Ba Shakle Kafan Mere Maula Hasan
Teri Soochoon Se Hi Bas Mehka Kare
“Tashif” Ka Jahan Mere Maula Hasan
~Hasan Haider Tashif Aamir Ahmed Ishqi
#15 रमजान विलादत ए मौला  इमाम हसन इब्ने अलीع
तमाम मुहिबान ए अहलै बैत  ع को जहूर ए हम शक्ल ए मुस्तफा ﷺ मौला इमाम हसन अल मुज्तबा عखुब खुब मुबारक हो
ज़िक्र ए हसन عइबादत ए परवर दिगार है
कौले रसूल ए पाक  ﷺसे ये आसकार है
जिस शख्स का गुलामे हसन ع में शुमार है
उस शख्स की निजात का हक जिम्मेदार है
म़दहे हसन ع असल में है मिंदहत रसुल ﷺ की
मदहे रसूल  ﷺ  मिदहत ए परवर दिगार है
जंग ए हुसैन ع जिस तरह “दी” की है  आबरू सुल्हे हसन ع उसी तरह “दी” का विकार है
जुल्फे नही है दस्ते हसन ع और हुसैन ع मे
हाथों में इनके दीन ए खुदा की मेहर है
उसकी बुलंदियों पे फलक क्यो ना हो निसार
दोशे रसूले पाक ﷺ  का जो शह सवार है
नाजिल न क्यो हो इसके तस्सद्दुक में रेहमते
जिसका वजूद रेहमते परवर दिगार है
हम क्यो ना जश्न ए मोहम्मद ﷺ कहे इसे
हर वस्फ में नबी ﷺ का जो आइना दार है
बातिल का कट गया है गला तेरी सुल्हा से
मौला ये तेरी सुल्हा है या जुल्फिकार है
वो जिसके दिल में इसकी विला बरकरार है
उस शख्स पर इनायत परवर दिगार है
हुसैन ع साबिरो शाकिर है मुस्तुफा  ﷺ की तरह
हसन ع  को अम्न का परवर दिगार कहते है
_
#अस्सलाम_ओ_अलेका #या_हसन_अल_मुज्तबा

          🙏paigame 🎠Imam 🙏Hussain👏

🌹अस्सलामु अलैकुम व रहमतुल्लाहि व बराकातहू🌹

अल्ला हुम्मा सल्लि अला मुहम्मदिंव व अला आली
मुहम्मदिनकमा सल्ले-त अला इब्राही-म व अला आली
इब्राही-म इन-क हमीदुम मजीद

दीन अस्त हुसैन अ.स
♥️♥️♥️🌹🌹🌹♥️♥️♥️
5 रमजान यौमे विलादत मौला इमाम हसन अल मुजतबा अलैहिस्सलाम सभी मौहिब्बाने अहलेबैत عको बहुत बहुत मुबारक हो
♥️♥️♥️🌹🌹🌹♥️♥️♥️
वो आम करने इमामत का फैज़-ए-आम आये
जहाँ में आज मेरे दूसरे इमामع आये

मेरी जुबां से बरसेंगे फूल आज के दिन
बहुत खुश हैं अली عऔर बतूल سआज के दिन
हसन عआये हैं तक्मिल-ए-पंजेतन के लिये
दरूद का हैं मुसलसल नज़ूल आज के दिन

   
  या आक़ा-ओ-मौला इमाम हसन अलैहिस्सलाम

इमाम हसन इब्ने अली अ.स. सिलसिला ए इमामत की दूसरी कड़ी हैं.
आप की विलादत  5  और कुछ रिवायतों में 15  रमजान 3  हिजरी को मदीना मुनव्वरा में हुई.
5 रमजान खानक़ाह ए आलिया नियाज़ीया के बुजुर्गो से और फज़ाईल-ए-अहलेबैत हुज़ूर मौहम्मद क़ासिम मियाँ क़िबला नियाज़ी साहब की जानिब और भी दीगर किताबों से हवाले मिलतें है आप की पैदाइश 5 रमजान है ।

आप मौला इमाम अली अलैहिस्सलाम और सय्यदा फातिमा ज़ेहरा सलामुल्लाह अलैहा के बड़े बेटे है
मौहम्मद मुस्तफा ﷺ और जनाबे खतीजा-ए- क़ुबरा सलामुल्लाह के बड़े नवासे है।और हज़रते अबुतालिब के बड़े पोते है.
आप का नाम      :: हसन 
लक़ब              :: मुज्तबा 
कुन्नियत   :: अबु मोहम्मद
आप के लिए मौहम्मद मुस्तफा ﷺ ने फ़रमाया की आप जन्नती नवजवानो के सरदार है.आप की शान और मर्तबे के मुताल्लिक बहुत सी हदीस ए मुबारका मौजूद है।
ज़हरी र.अ कहते है की आप की विलादत बा सआदत रमज़ान हिजरत के तीसरे साल वाक़े हुई।
अल्लामा बिन साद ‘तबकात में और इब्ने अब्दुल बर ‘इस्तियाब में लिखते है की जनाब इमाम हसन अ.स. हिजरत के तीसरे बरस रमज़ान में और बाज़ के नज़दीक चौथे बरस और बाज़ के नज़दीक पांचवे बरस पैदा हुए है। और पहली बात ज़्यादा सही है.
हज़रत सलमान फारसी रज़ि से रिवायत है की  हज़रत मौहम्मद मुस्तफ़ा  ﷺ ने  फ़रमाया की  हज़रत हारुन अलैहिस्सलाम ने अपने दोनों बेटो का नाम
शब्बर ओ शब्बीर रक्खा था 
 मैंने अपने दोनों बेटो का नाम हसन ओ हुसैन रक्खा है ..

हज़रत इमाम हसन अल मुजतबा अलैहिस्सलाम ताज़दारे मदीना सरवरे आलम हज़रत मौहम्मद मुस्तफा ﷺके और हज़रत बीबी खतीज़ा सलामुल्लाह अलैहा के बड़े नवासे है ।हज़रत अली करम अल्लाह वज़हू करीम अलैहिस्सलाम हज़रत बीबी फातीमा ज़हरा सलामुल्लाह अलैहा के बड़े बेटे और हज़रत इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम के बड़े भाई है।और पाँचवे खलीफा है ।और आप दुसरे इमाम भी है हसन आप का नाम और मुजतबा आप का लकब है
आप जन्नत के सरदार भी है।
हज़रत इमाम हसन अल मुजतबा अलैहिस्सलाम ने 25 हज पैदल किये ।

हसन बसरी कहते है इक रात मे खाना-ए-क़ाबा मे इबादत कर रहा था ।इक बुजुर्ग खाना-ए-काबा मे गिरया-ओ-जारी के साथ यानी रोते हुए अश्क़ बहाते हुए दुआ माँग रहे थे ।जब वो दुआ से फारिग हो कर जाने लगे तो मैने उनसे उनका नाम दर्याफ किया यानी पुछा वो फरमाने लगे मै हसन इब्ने रसूलुल्लाह हू ।हसन बसरी कहते हैं मेने इमाम ए हसन अलैहिस्सलाम को पकड़ कर अर्ज किया हुजूर इतनी गिरया ओ जारी तो ।आपने फरमाया ए हसन बसरी ये वो बारगाह है जो शहंशाह हे बे नियाज़ है ज्यादा तफसीली बात ना करते हुए ।आप के सवाल का जवाब देते हैं ।नबी के नूरे ऐन अली के दिल के चैन सय्यदा फातीमा ज़हरा सलामुल्लाह अलैहा के बड़े बेटे ताज़दारे जुदो शखा पैकरे शब्रो रज़ा हज़रत इमाम हसन अलैहिस्सलाम ने पैदल 25 हज किये ।चुनाचे इमाम हाकिम की रिवयात है उसमे मुसतादरिक सफा नंबर 169 लिखा है आप ने 25 हज पैदल किये ।जिल्द नंबर 3 सादातुल कोनैन सफा नंबर 54 हज़रत इमाम हसन अलैहिस्सलाम जब हज के लिये तशरीफ ले जाते तो पैदल ही जाते थे ।हाला के आप के पास सवारीया भी थी लेकिन फिर भी सवार नही होते थे ।मदीना मुनव्वरा से पैदल ही तशरीफ ले जाते थे और फरमाते थे खुदा के घर मे जाते हुए सवार होकर जाने मे मुझे शर्म आती है ।किताब नाम अल बदाया वन्नेहा सफा न,37 जिल्द नम्बर 8 सवायेके मोहर्रिका सफा नम्बर 137और तारीख की दिगर किताबो मे येही है के दोनो भाईयो ने यानी इमाम हसन अलैहिस्सलाम और इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम ने 25-25 हज पैदल किये ।किताब का नाम 12 इमामैन सफा नम्बर 286 ।

ये सभी रिवायते सही सनद के साथ है और रावी कोन वो भी आप के सामने पेश कर दिये ।और आप ने 20 हज किये उसकी कोइ सही सनद रावी मौजुद नही है ।
फिर भी किसी के पास सही रावी से सही सनद हो के आप ने 20 हज किये तो आप वो सनद से पेश कर सकते हो ।

Abu Rafi’ reported: I saw the Messenger of Allah, ﷺ pronounce the call to prayer in the ear of (Sayyiduna) Hasan ibn Ali when he was born.

-The Beloved Messenger of Allah ﷺ

Ref: Sunan Tirmidhi

15 Ramazan Kareem
Imam Maula Hasan ‎(عليه السلام) Ki
Wiladat Bahot Bahot Mubarak Ho 

Ibne Abbas Se Riwayat Hai
Ek Baar RasoolAllah ‎(صلى الله عليه وآله وسلم)‎
Imam Hasan ‎(عليه السلام) Ko Apne
Kandhe Par Bithaye Huwe The,
Kisi Sahabi Ne Kaha Aye Sahabzaade
Aapki Sawari Bahot Acchi Hai
To Aaqa Ne Farmaya Sawaar
Bhi To Accha Hai..

Reference : 
(Tarikh e Khulfa)

Bitha Kar Shaanae Aqdas
Pe Kardi Shaan Do Baala,

Nabi Ke Laadlon Par Har
Fazeelat Naaz Karti Hai..

‎اللَّهُمَّ صَلِّ عَلَى سَيِّدِنَا مُحَمَّدٍ وَعَلَى آلِ سَيِّدِنَا مُحَمَّد

Tadhkira-e Imam Hasan Al-Mujtaba ‘Alayh-is-Salam
Aap ‘Alayh-is-Salam Baara A’immah Me Se Dusre Imam Hain. Aap ‘Alayh-is-Salam Ka Naam Naami Isme Girami : “Hasan” Kunyat : “Aboo Muhammad” Alqabat : “Taqi, Zaki, Sayyid Mujtba, Shabihe Rasool” Wagaira Hain.

Hazrat Imam Hasan ‘Alayh-is-Salam Kee Wildate Ba-Sa’adat Hijrat Ke Teesre Saal 15 Ramdan-ul-Mubarak Ko Madinah Munawwarah Me Huwi. Huzoor Rahmat-E-Aalam SallAllahu Ta’ala ‘Alayhi Wa Aalihi Wa Sallam Ne Hazra Imam Hasan ‘Alayh-is-Salam Kee Wiladat Se Phele Hazrat Ummi Salamah Aur Hazrat Asma’ Binte Umays RadiyAllahu Ta’ala ‘Anhuma Ko Hukm Diya Ki Tum Ne Meri Beti Fatimah Ke Paas Rehna Hai Aur Jab Un Ke Haa’n Baccha Paida Ho Jaaein To Mujhe Khabar De Dena. Mere Aane Tak Koi Kaam Na Karna. Chunanche Huzoor Nabiyye Karim SallAllahu Ta’ala ‘Alayhi Wa Aalihi Wa Sallam Tashrif Farma Huwe Aur Apna Lu’aab Dahan Mubarak Hazrat Imam Hasan ‘Alayh-is-Salam Ke Moonh Mubarak Me Daala Aur Phir Ye Du’aa Farmayi : Aye Allah! Mein Is Ko Teri Panaah Me Deta Hoo’n Aur Is Kee Aulaad Ko Bhi Us Shaytaan Ke Sharr Se Jo Teri Bargah Se Raanda Gaya Hai.

Nabi Karim SallAllahu Ta’ala ‘Alayhi Wa Aalihi Wa Sallam Ne Aap Ka Naam “Hasan” Rakha. Wiladat Ke Saatwe Din Aap Ka Aqiqa Kiya, Baal Mundwaein Aur Hukm Diya Ki Baalo’n Ke Wajn Ke Barabar Chaandi Sadqa Kee Jaaein. Hazrat Imam Hasan ‘Alayh-is-SalamShakal Wa Soorat Me Sar Se Le Kar Paaun Tak Khwaja-E-Kawnayn Muhammad Mustafa SallAllahu Ta’ala ‘Alayhi Wa Aalihi Wa Sallam Ke Mushaabeh They. Hazrat Aboo Bakar RadiyAllahu Ta’ala Anhu Se Riwayat Hain : Nabiyye Akram SallAllahu Ta’ala ‘Alayhi Wa Aalihi Wa Sallam Sahaba Ko Namaz Padha Rahe They Aur Jab Aap Sajde Me Jaate To Hazrat Hasan Bin Ali Aap Kee Pushte Mubarak Par Khel Rahe Hote Kai Dafa Aisa Huwa, Sahaba Ne Arz Kiya : Hum Ne Aap Ko Ye Mu’amala Kisi Aur Se Karte Huwe Nahin Dekha, Farmaya : Mera Yeh Beta Sardar Hain Anqareeb Allah Ta’ala Is Ke Zari’e Musalmano’n Ke Do Azim Giroh Me Sulh Karwaega. Aap ‘Alayh-is-Salam Ke Zamana-E-Khilafat Me Aik Aadami Ne Namaaz Kee Haalat Me Aap Par Hamla Kar Diya Aur Sajde Me Aap Par Khanzar Ka Waar Kiya. Aap Ne Khutba Farmaya : Aye Ahle Iraq Hamaare Baare Me Allah Ka Taqwa Ikhtiyaar Karo. Hum Aap Ke Ameer Aur Mehmaan Bhi Hain. Aur Hum Woh Ahl-E-Bayt Hain Jin Ke Muta’alliq Allah Ta’ala Ne Farmaya Hai : إِنَّمَا يُرِيدُ اللَّهُ لِيُذْهِبَ عَنْكُمُ الرِّجْسَ أَهْلَ الْبَيْتِ وَيُطَهِّرَكُمْ تَطْهِيرًا Aap Is Aayat Ko Baar Baar Padhte Rahe Yaha’n Tak Ki Tamam Ahle Masjide Ro Pade.”

[Ibn Hajar Makki Fi As-Sawa’iq Al-Muhriqah ‘Ala Ahl Al-Rafd Wa Al-Dalal Wa Al-Zandaqah, Shablanji Fi Noor-ul-Absar Fi Manaqibi Aali Bayt-in-Nabiyy-il-Mukhtar, Al-Sharaf Al-Mu’bbad Li-Al-Muhammad, Jami’ Fi Shawahid-un-Nubuwwah.]

क्या हम सैय्यदना इमामे हुसैन अलैहिस्सलाम के बड़े भाई और उम्मत के पांचवें ख़लीफ़ा ए राशिद सैय्यदना इमाम हसन अलैहिस्सलाम को भूल गए हैं ???

रोज़े क़यामत अगर रसूलुल्लाह صلی اللہ علیہ وآلہ وسلم ने हमसे पूछ लिया कि मैंने तो अपने दोनों नवासों को लुआब ए दहेन कि घुट्टी दी थी दोनों को अपने कांधे मुबारक पर उठाया था दोनों को जन्नत का सरदार बनाया था तो तुम लोगों ने मेरे “हसन” को क्यों फ़रामोश कर दिया क्यों भुला दिया ???

याद रहे आपकी शहादत 28 सफ़र को हुई
(28 सफ़र यौमे शहादत सैय्यदना इमाम हसन अलैहिस्सलाम)

सैय्यदना इमामे हसन उम्मत के पांचवें ख़लीफ़ा ए राशिद हैं आप मनसब ए ख़िलाफ़त पर तक़रीबन 6 माह फ़ाइज़ रहे और इमामत पर हमेशा फ़ाइज़ रहेंगे

सैय्यदना इमामे हसन ने उम्मत को बचाने की लिए इख़्तेदार को ठोकर मार दी ताकि मुसलमानों का ख़ून न बहे

सैय्यदना इमामे हसन के ज़िक्र को दुश्मने अहलेबैत दबाते छुपाते हैं
याद रहे हदीस ए रसूल ﷺ है कि मेरे बाद ख़िलाफ़त 30 साल तक रहेगी फिर बादशाहत का दौर शुरू होगा (मुसन्द अहमद,तिर्मिज़ी,अबु दाऊद)

सही रिवायतों और मुस्तनद तारीख़ी किताबों में ख़िलाफ़त ए राशिदा की 30 साल तक कि मुद्दत को इस तरह बयान किया गया है

1- हज़रत अबु बकर सिद्दीक़ रदिअल्लाहो अन्हो की ख़िलाफ़त का ज़माना 2 साल 4 माह
2- हज़रत उमर फ़ारूक़ रदिअल्लाहो अन्हो की ख़िलाफ़त का ज़माना 10 साल 6 माह
3- हज़रत उस्मान ए ग़नी रदिअल्लाहो अन्हो की ख़िलाफ़त का ज़माना चन्द रोज़ कम 12 साल
4- हज़रत मौला अली कर्मअल्लाहो वजहुल करीम की ख़िलाफ़त का ज़माना 4 साल 9 माह
इस तरह चारो ख़ुल्फ़ा की मुद्दत ए ख़िलाफ़त तक़रीबन
29 साल 7 माह बनती है
5- हज़रत सैय्यदना इमामे हसन अलैहिस्सलाम की ख़िलाफ़त का ज़माना 5 माह चन्द दिन (आपकी ख़िलाफ़त के ज़माने को मिला कर ख़िलाफ़त ए राशिदा के 30 साल मुकम्मल हुए)

सैय्यदना इमामे हसन अलैहिस्सलाम इस उम्मत के दूसरे इमाम और पांचवे ख़लीफ़ा ए राशिद है!

हक मौला हसन या मौला हुसैन

Imam Hasan WO HAIN Jinki Wiladat (Birth) ka Zikr Quran me hai!!

Marajal Bahrain!

“Jab Sayyeda-e-Kainat aur Maula Ali al Murtaza ka Nikah hua to Ye 2 Samundar Mile. Ek Samundar Ismat o Taharat-e-Sayyeda Fatimah aur Dusra Samundar-e-Wilayat-e-Maula Ali al Murtaza. “Marajal Bahraine Yaltaqiyaan” (Surah Rahman) Jab Ye 2 Samundar mile aur Inke Darmiyan Waseela Parda ka Wo Mustafa ki Zaat Hai. To Jab Ye Samundar Miley to Inke Milne se 2 Chizen Niklin “Lu’alu wal Marjaan” Ek moti nikla ek marjaan nikla. Agar aapko pata ho to moti seep me hota hai aur samundar ki lehren lag lag lagkar us moti ko mas hohokar uspar sabz (green) rang ki jhalak aajati hai. Agar sachha aur suchha moti dekhna ho to is tarah dekho jisme sabz jhalak nazar aaye, samjhlo khaalis moti hai! jisme sabz jhalak na ho wo khaalis moti nahi. To usme se “Lu’alu” sabz rangat waala Moti nikla, sabz rangat zehar ki thi ye Hasan-e-Mujtaba they! Aur “Wal Marjaan” Marjaan ka rang surkh (red) hota hai, Ye Khoon-e-Hussain ka Rang tha!

Behr-e-Wilayat aur Behr-e-Ismat o Taharat Miley Batasadduq-e-Mustafa, Us Nikah ke Hijab se Miley to Hasan Moti banke nikley aur Hussain Marjaan banke nikley!”

Alaihim Afdalus Salawatu was-Salaam

-Shaykh-ul-Islam Dr. Tahir-ul-Qadri

Allahumma Salle Ala Sayyedina wa Maulana Muhammadiw wa Ala Sayyedina Aliyyuw wa Sayyedatina Fatimah wa Sayyedatina Zainab wa Sayyedina Hasan wa Sayyedina Hussain wa Ala Aalihi wa Sahbihi wa Baarik wa Sallim

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Create your website with WordPress.com
Get started
%d bloggers like this: